पुष्प-सुरभ

तुम सुरा हो

या सुर हो

मेरे दिल का तुम गुरूर हो

नशे सी मगरूर हो

मेरी रूह पर कब्जा करने वाली,

पुष्प-सुरभ तुम मेरी असुर हो,

पुष्प-सुरभ तुम मेरी असुर हो ।।

Like what you read? Give Ashish Sharma a round of applause.

From a quick cheer to a standing ovation, clap to show how much you enjoyed this story.