हसरत

बस जिंदगी की एक ही हसरत है

तुम बार बार रूठती रहो मुझसे

और मैं बार-बार तुम्हें मनाता रहूँ

मैं बार-बार तुम्हें मनाता रहूँ।।

Like what you read? Give Ashish Sharma a round of applause.

From a quick cheer to a standing ovation, clap to show how much you enjoyed this story.