आपके मोबाइल फोन पर कितने कीटाणु रहते हैं? How many germs live on your cell phone?

आजकल मोबाइल फ़ोन की क्या वैल्यू है ये इसी बात से समझा जा सकता है की लोग भूखे प्यासे रहना बर्दास्त कर सकते है लेकिन अपने फ़ोन को दूर नहीं रख सकते। लोग कुछ भी यहाँ तक की अपना जरुरी काम भी भूल सकते है, लेकिन अपने फ़ोन को लिए बगैर कही भी नहीं जाते। अगर यूँ कहे की हम इंसानों की जिंदगी में ये फ़ोन ही जिंदगी बन गया है तो गलत नहीं होगा।

लेकिन इस पोस्ट में जो बाते बताने जा रहा हूँ, शायद आप अपना फ़ोन इस पोस्ट को पढने के बाद कम इस्तेमाल करेंगे।

क्या आपको पता है एक स्मार्ट फोन में एक टॉयलेट के मुकाबले 18 गुना ज्यादा हानिकारक कीटाणु होते है। कई टेस्ट इसकी पुष्टि कर चुके है।

मोबाइल हैंडसेट पर किये गए एक अध्ययन के मुताबिक एक फोन में इतने बेक्टेरिया होते है की इस्तेमाल करने वाले का गंभीर रूप पेट तक ख़राब कर सकते है।

हालाकि ये बेक्टेरिया आपको तुरंत हानि तो नहीं पहुंचाते लेकिन अगर आप व्यक्तिगत साफ़ (Personal Hygiene) सफाई का ख्याल ना रखे तो तो अन्य कीटाणुओं के प्रजनन के लिए जरुर मददगार होते है।

स्वच्छता विशेषज्ञ (Hygiene Expert) जिम फ्रांसिस, जिन्होंने ये परीक्षण किए है, उनके मुताबिक “एक मोबाइल पर हानिकारक बैक्टीरिया का स्तर पैमाने पर नहीं आँका जा सकता बल्कि उससे भी ज्यादा था। यही कारण है कि फोन के कीटाणु-हनन की जरूरत।”

आम तौर पर लोग किसी टॉयलेट के फ्लश को भी छूने से कतराते है ये सोंच कर की वो कितना गन्दा है उसपर कितने बेक्टेरिया होंगे, उन पर बेक्टेरिया तो है लेकिन आपके फ़ोन से कम।

हम कुछ भी खाते है या छूते है जिससे हम कीटाणुओं के संपर्क में आते है और फिर जब हम अपना फ़ोन इस्तेमाल करते है तो यही वायरस हमारे फ़ोन में भी ट्रान्सफर हो जाते है।

ये सब हमारी आदतों पर भी निर्भर करता है, जैसे हम रोज अपने शरीर की, कपड़ो की, अपने घर की व अन्य जरुरत के सामानों की साफ़ सफाई करते है वैसे ही अपने फ़ोन को रोज साफ़ नहीं करते। बताइए आपने अपना फ़ोन पिछली बार कब साफ़ किया था।

एक और रोचक बात ये है की आपके फ़ोन के एक स्क्वायर इंच में 25,000 कीटाणु पाए जाते है। और मजे की बात ये है की इतना गन्दा होने के बाबजूद हम उसे हमेशा अपने साथ रखते है।

लोगो को साफ़ सफाई की तरफ ध्यान देने की जरुरत है उन्हें खुद तो साफ़ रहना ही चाहिए और उन लोगो के बारे में भी सोचना चाहिए जिन्हें वे अपना फ़ोन इस्तेमाल करने देते है।

जैसा की आजकल आमतौर पर देखा जाता है की सेल्फी लेना या अपना फ़ोन बच्चो को खेलने के लिए दे देना। इससे तो आप बीमारी को अपने साथ लेकर घूम भी रहे हो दुसरो को बीमार भी कर रहे हो।

इसके अलावा एक कंप्यूटर का इस्तेमाल किया जाने वाला की-बोर्ड एक शोंचालय की सीट से भी ज्यादत कीटाणु होते है।

एक बात हम सब को समझनी चाहिए की फ़ोन को इस्तेमाल करे लेकिन उसे वेवजह इस्तेमाल करके उसे अपनी आदत ना बनाये। खुद की साफ़ सफाई के साथ अपने फ़ोन को भी एक निर्धारित समय पर साफ़ रखने की आदत बनाये। अगर आपके पास ऐसे कोई जानकारी है जो लोगो के स्वस्थ से जुडी हुई है तो उसे आप कमेंट के जरिये हमसे शेयर कर सकते है। सेफ और निरोगी रहे। अगर ये आर्टिकल आपको अच्छा लगे तो इसे शेयर करे

Show your support

Clapping shows how much you appreciated Manshelt’s story.