नीम

नीम का एक पेड़ था मेरे आँगन में,
उसकी हर पत्ती, हर टहनी से मेरा नाता था,
कट जाने के बाद भी वो हर दिन मेरे सपने में आता था
वो तो चला गया लेकिन हर पेड़, हर पत्ती से प्यार करना सीखा गया,
अब हर पेड़ मुझे अपना लगता है,
हर पत्ती मुझसे बातें करती है
हर पेड़ के पास से गुज़रते हुए
मुझे मेरे नीम की सांस सुनाई देती है

#love

Show your support

Clapping shows how much you appreciated Pranjali Sirasao’s story.