E-commerce of a Monk : एक भिक्षु का ई-बाज़ार

Core Thought : How Can a Business Mind Meditate ? How Can a Zen Mind do e-commerce ? For a moment these contradictions make you believe that the idea of meditation is so distant from this world. Tidal Waves of your money, power, glory, politics & success crash continuously to the rocks of mind.

But actually it is a state of nothingness which makes you talk to yourself while in utter chaos of this world, wired with internet. You can say that the universal existence of Man & consciousness is Binary (101010) just like code of modern computing.

एक भिक्षु को सोशल मीडिया पर ज्ञान और खुशियों की विधियां बेचते देखकर 
मन में आया कि ध्यान और दर्शन, 
इंटरनेट की अदृश्य तारों से बंधी दुनिया के केंद्र में बैठकर भी संभव है
किसी पहाड़, समुद्र तट, कंदरा या वन में प्रस्थान की ज़रूरत नहीं
देवालय में भी Error 404 आएगा क्योंकि वो जुड़ा नहीं है संसार से
भिक्षु कुछ माँग नहीं रहा
विज्ञापन कर रहा है अपनी शून्यता का, 
राख होकर फूल बन चुकी इच्छाओं का
कह रहा है आपको अपने भीतर लॉग इन करने के लिए
पासवर्ड है : 101010
एक और शून्य एक साथ खड़े हो जाएं
तो इंसान और चेतना जैसे लगते हैं

© Siddharth Tripathi ✍️SidTree®

Add Bookmark for SidTree.co

Like what you read? Give Siddharth | *SidTree a round of applause.

From a quick cheer to a standing ovation, clap to show how much you enjoyed this story.