najariya

नजरिया

आज मै खुद के नजरिये के बारे में लिख रही हूँ I की मेरा गावं को देखने का जो नजरिया था I और अभी जो है दोनों काफी अलग है !जैसे जब मै प्रोजेक्ट पोटेंशियल में एक विलेज विसिओनरी के रूप में कम करती थी तो उस समय मुझे गावं में हमेशा समस्याए दिखता था की यहाँ के लोग जागरूक नहीं है I ये लोग कुछ नहीं कर पाएंगे हमेशा गावं में समस्याए दिखता था I और मै जिन बच्चों के साथ काम करती थी उनके बारे में मुझे लगता था इन्हें कुछ नहीं आता है I मै कैसे सीखा पाऊँगी जिसके वजह से हमेशा टेंशन रहता था I लेकिन जब से मै एक स्वयं सीखी बनी हूँ I तब से गावं को देखने का पूरा नजरिया बदल गया है अभी हर चीज अलग दिखता हैं और हर चीज मुझे सकारात्मक रूप से दिखता हैं अभी लगता हैं की गावं में और गावं के बच्चों के अन्दर काफी पोटेंशियल है जो मै देख नहीं पा रही थी !क्योकि मेरे अन्दर ये भावना थी की मै दुसरे को सिखाने आई हूँ जिस वजह से मै कभी ये समझ नहीं पाई की मै उनसे भी सिख सकती हूँ क्योकि हम हर चीज से सीखते हैं ये मेरे लिए बहुत बड़ी लर्निंग रही की हम जिस नजरिये से चीजो को देखते हैं हमे वही लगता हैं और कभी समझ ही नही पातें जिस वजह से हम दुसरे को दोष देते रहते हैं जिस तरह पहले मै दे रही थी I

�����F�_`��