ना तेरी ‘ना’ से गुरेज़

ना झूठे वादे से गिले शिकवे

‘प्रेम’ ना में ही छुपी है हाँ

वायदे में मौजू है, उम्मीद की वजह

Show your support

Clapping shows how much you appreciated Premjit Lal’s story.