यादों से अपनी मिटा तो रहे हो,

पर ख़्यालों मे, मेरे तो अब भी बसते हो;

ज़िंदगी से अपनी हटा तो रहे हो,

पर ख़्वाबों मे, मेरे तो अब भी हँसते हो।

Show your support

Clapping shows how much you appreciated Premjit Lal’s story.