यादों से अपनी मिटा तो रहे हो,

पर ख़्यालों मे, मेरे तो अब भी बसते हो;

ज़िंदगी से अपनी हटा तो रहे हो,

पर ख़्वाबों मे, मेरे तो अब भी हँसते हो।

Like what you read? Give Premjit Lal a round of applause.

From a quick cheer to a standing ovation, clap to show how much you enjoyed this story.