Mere Jivan ki Awazen : Gandh Potash aur Sheepa
Devendra Singh
61

ऐसी कहानियों का हमारे जीवन में बहुत महत्व रह जाता है पर भीड़ भाड़ और भागम भाग में हम सुनना भूल जाते। मुझे खुशी है कि आप आज भी इन आवाज़ों को पहचानते हैं और शायद तभी, तभी यह मुमकिन है कि आप एक लगनशील आँतरोप्रेनर हैं।

Show your support

Clapping shows how much you appreciated Pritesh Gupta’s story.