ᎷᎩ ᏖᏬᏦᏰᏗᏁᎴᎥ

ना दिमाग पर बोझ लेते हैं,
ना दिल पर बोझ लेते हैं.

जीवन की इस मदिरा का,
छलकता जाम रोज लेते हैं.

Read more…http://rrnehra.blogspot.in/2015/05/a-hindi-life-poem-by-raju-rajendra-nehra.html