बस निकल पड़े हैं, मंज़िल से नहीं, हम तो रास्तों से मोहब्बत कर बैठे हैं

Show your support

Clapping shows how much you appreciated Satyaprem Upadhyay’s story.