दोस्तों मैं जो लिख रहा हूँ वो केवल मेरे अबतक के अनुभव है |

मैं जब 10 वीं पास करके कॉलेज में नामांकन कराया तो मुझे 2 साल का समय लगा कॉलेज में INTER की पढाई पूरी करने में | एक काफी हास्य परक बात है की इन कॉलेजों में क्लास नही लगते थे जबकि कॉलेज मैं लगभग सभी क्लास के प्रोफेसर होते थे |मुझे BOOKS पढने की चीजों को गहराई से समझने की चाहत काफी थी |पर कॉलेज में ऐसी वेवस्था न होने के कारन मैं ज्यादा कुछ नही सीख पाया था |और इसके बदले में मुझे और कोइ अन्य माहोल नही मिला था |माहोल नही MILNE के कारण मेरे अन्दर की रूचि, skills, आदि धीरे -धीरे समाप्त होने लगी |मैं खुद से काफी कोशिश करके चीजों को सिखने की कोशिश करने लगा था I हमारे क्षेत्र के कॉलेजों में साल में २ बारEXAM होते हैं ! एग्जाम की तैयारी लगभग ग्रामीण युवा नहीं करते हैं ! जिसमे मैं भी शामिल था ! और जब एग्जाम नजदीक ATA है तो वे लोग GUESS PAPER खरीद लेते हैं जिसमे EXAM में पूछे जाने वाले सवालों के रहने की संभावना रहती है ! तो सभी STUDENTS उस GUESS PAPER को खरिदने में लग जाते हैं और जब EXAM HONE का समय आता है तब उस GUESS PAPER KO चोरी छुपे EXAM HALL में ले जाते हैं !लगभग प्रश्नों के उत्तर तो तो उस गेस पेपर से लिख लेते हैं ! ऐसा वो ISILIYE करते हैं ताकि अच्छेMARKS , समाज मेंRESPECT और अच्छी मार्क्स वालीDIGREE मिल पाए ! ऐसा करके उन्हें अच्छेMARKS वालेDIGREE तो मिल जाते हैं पर……………. !
 आवस्यक MAHATWPURN GYAN नही मिल पाता ! जिस कारण आगे भविष्य में जब ऐसे युवा उसDIGREE को लेकर किसीCOMPANY मेंJOB के लिए जाते हैं ! तो आवश्यक ज्ञान की कमी होने के कारण कोइ भीCOMPANY उन्हें जॉब नही देती ! सरकारी जॉब लेने के लिए ग्रामीण युवाओं मैं ज्यादातर होर लगी रहती है ! सरकारी जॉब पाने के लिए डिग्री के साथ- साथ ज्ञान का होनाAAWASYAK होता है ! और काफी सारे प्रतियौगीता परीक्षा पास करने परते हैं ! ज्ञान की कमी के कारण ज्ञान की कमी के कारण ऐसेEXAM को युवा पास नही कर पाते जिससे जॉब पाने में सफल नही हो पाते ! ऐसी स्थिति में जब युवा जॉब नही ले पाते हैं तब समाज के लोग , घर के लोग उन्हें ताना मारने लगते हैं ! अंत में ऐसे युवा अपने जीवन से हार मानने लगते हैं !जबकि इन युवाओं में अनंत शक्तिया होते हुए उन्हें महसूस करने का माहौल कभी उन्हें नही मिल पाता ! आज ग्रामीण युवा भी ज्ञान के पीछे कम और डिग्री के पीछे ज्यादा भागते हैं जिससे ऐसी समस्या उन्हें भविष्य में झेलनी परती है !

One clap, two clap, three clap, forty?

By clapping more or less, you can signal to us which stories really stand out.