भारतीय कंपनियों के बनाए कलपुर्जे इस्तेमाल कर रहा है ISIS: रिपोर्ट

नई दिल्ली। कॉनफ्लिक्ट आर्मामेंट रिसर्च की जांच रिपोर्ट में इस बात का खुलासा हुआ है कि इस्लामिक स्टेट की ओर से आईईडी बनाने में इस्तेमाल किए जाने वाले कुछ कलपुर्जों को सात भारतीय कंपनियों ने बनाया था।

इसे लेकर लोकसभा में भी मामला उठा, जिसके जवाब में गृह राज्यमंत्री हरिभाई पारथीभाई चौधरी ने लोकसभा में जवाब दिया। उन्होंने कहा कि कानून के अनुसार भारत से लेबनान और तुर्की जैसे देशों को व्यापार के तहत निर्यात किया गया था। उन्होंने कहा कि सीएआर की रिपोर्ट के अनुसार, ऐसे कोई सबूत नहीं हैं जो यह कहते हों कि इन देशों और कंपनियों ने आईएस को सीधे तौर पर ये उत्पाद सौंपे।

कानफलिक्ट आर्मामेंट रिसर्च के बारे में बताते हुए गृह राज्य मंत्री ने कहा कि इसे यूरोपीय संघ की ओर मान्यता प्राप्त है और इसने ये खुलासे ऑनलाइन रिपोर्ट में किया है। उन्होंने बताया कि सीएआर ने साल 2014 से 2016 के बीच आईएस के आईईडी बनाने के लिए इस्तेमाल किए गए करीब 700 कलपुर्जे का अध्ययन किया था। रिपोर्ट की मानें तो डेटोनेटर, डेटोनेटिंग काड्र्स और सेफ्टी फ्यूज आईएस के हाथ लगे जो दूसरे देशों के अलावे भारत की 7 कंपनियों में भी बने थे।

Hindi news source — Dailyhunt.