Literary Impulse
Published in

Literary Impulse

ये तो हमको ख़बर ही न थी

कि हर ख़बर बेख़बर न थी

Photo by Jane Boyd & ECE Workshops on Unsplash

ये तो हमको ख़बर ही न थी
कि हर ख़बर बेख़बर न थी

माना कि चाँद में दाग तो होते हैं
पर उसके नूर में कोई कमी न थी

जब आँखें ही करें गैरों से वफ़ा
चाह कर भी कोई बात छिपी न थी

एक बार तो हाल पूछते सौरभ
इतनी बेदर्दी तो तुम में कभी न थी

--

--

A space for LITERARY FICTION, POETRY, PHILOSOPHY, POLITICS AND DIALOGUE with a mission of ‘social change through creative endeavours’.

Get the Medium app

A button that says 'Download on the App Store', and if clicked it will lead you to the iOS App store
A button that says 'Get it on, Google Play', and if clicked it will lead you to the Google Play store