my tukbandi
Published in

my tukbandi

आदम और हव्वा

एक जान तू है,

एक साँस मैं हूँ ,

एक तार्रुफ़ तू है,

एक पहचान मैं हूँ ,

एक सोच तू है,

एक ख्याल मैं हूँ ,

एक हर्फ़ तू है ,

एक लफ्ज़ मैं हूँ ,

एक घर तू है ,

एक सराय मैं हूँ ,

एक आइना तू है

एक काँच मैं हूँ ,

एक पैराहन तू है,

एक कफ़न मैं हूँ ,

एक शौक तू है ,

एक ख़्वाब मैं हूँ ,

एक अँगार तू है ,

चिंगारी मैं हूँ ,

एक सफ़ा तू है ,

एक किताब मैं हूँ ,

तू तराशता है अपना ख़ुदा ,

मुझे अपना रब भी नसीब नहीं .

गर हैं हम यकसान ,

तो तेरे कायदे दोहरे क्यों हैं ?

ये आदम और हव्वा की दास्तान क्यों है ?

नहीं मंज़ूर मुझे किसी हाल में ये.

अपना एक जहाँ बसाऊँगी मैं,

तब आना तुम वहाँ ,

तुमको भी बुलाऊँगी मैं .

Image from pixabay

https://rituspoems.wordpress.com/

--

--

--

हम स्वर्णिम पन्नों पर लिखा नहीं करते, हम लिखकर पन्नों को स्वर्णिम बना दिया करते हैं।

Get the Medium app

A button that says 'Download on the App Store', and if clicked it will lead you to the iOS App store
A button that says 'Get it on, Google Play', and if clicked it will lead you to the Google Play store
Ritu Chaudhry

Ritu Chaudhry

Just this. Not much.

More from Medium

Reflections on Emily Ratajkowski’s ‘My Body’ and Reclaiming Female Agency

Fond Farewell to Our Alumni Committee + Exciting TCFS Alumnae News

What is the DH Rule Doing in Youth Baseball?

R-Ladies Cologne joins the family