my tukbandi
Published in

my tukbandi

Photo by Jonatán Becerra on Unsplash

कैसा समय था?

--

--

--

हम स्वर्णिम पन्नों पर लिखा नहीं करते, हम लिखकर पन्नों को स्वर्णिम बना दिया करते हैं।

Get the Medium app

A button that says 'Download on the App Store', and if clicked it will lead you to the iOS App store
A button that says 'Get it on, Google Play', and if clicked it will lead you to the Google Play store
Namrita Swarup ( गुलनाज़ )

Namrita Swarup ( गुलनाज़ )

ख़याल मन को घेरते हैं या मन ख़यालों को? जवाब जो भी हो, ख़यालों को अगर लिख लिया जाए तो पढ़ने में बड़ा मज़ा आता है, आपका क्या ख्याल है? बताइयेगा :)

More from Medium

Beyond AI+Bio — Emergent Biotechs

Image Processing in the Visual Cortex

Basement Waterproofing

Using predictive technology to foster constructive conversations