तूने मुझे जो जख्म दिए उसके निशान नहीं थे..

वो रास्ते,जिनपर मैंअकेली चली,आसान नहीं थे..

खुदा ने जब खुशियाँ बाँटी, सब जी भर लूटते रहे..

मुझ तक आते-आते खुदा के पास मुस्कान नहीं थे..

अ.अ.

Like what you read? Give Archana Anupriya a round of applause.

From a quick cheer to a standing ovation, clap to show how much you enjoyed this story.